ये आपके खून से कोलेस्ट्राल का लेवल कम करके रक्तचाप को नियंत्रित करता है.

इसकी सहायता से ह्रिदय के तमाम जोखिमों को कम किया जाता है.

इसमें पाए जाने वाली तमाम पोषक तत्वों में कई ऐसे हैं जिनसे ह्रदय में रक्त संचार प्रभावी ढंग से बढ़ता है.

आयरन की प्रचुर मात्रा स्पिरुलिना को गर्भाव्स्था के दौरान एक आवश्यक आहार बनाता है.

इसकी सहायता से अनीमिया को दूर किया जा सकता है.

कई शोधों में स्पिरुलिना को आँखों के लिए भी लाभदायक बताया गया है.

स्पिरुलिना में त्वचा के स्वास्थ्य के लिए जरुरी विटामिन ए, बी-12, ई, फास्फोरस, आयरन और कैल्शियम आदि पाए जाते है.

अपने इन तत्वों की बदौलत स्पिरुलिना आपकी त्वचा को टोंड और चमकदार बनाती है.

मधुमेह के मरीजों के लिए भी स्पिरुलिना काफी काम का साबित होता है.

यही नहीं ये आँखों के निचे के धब्बे और ड्राई आईज के उपचार में भी लाभदायक है.

इसे नियमित रूप से लेने से आपका शुगर कम होता है.

ये सूजन को कम करके रक्तचाप और कोलेस्ट्राल का स्तर भी निचे लाता है.

ड्यूइडनल अल्सर और गैस्ट्रिक के उपचार में बेहद प्रभावी बनाता है.

इसमें पाया जाने वाला क्लोरोफिल इसे पाचन को भी दुरुस्त करने की क्षमता देता है.

अनेकों पोषक तत्वों से परिपूर्ण स्पिरुलिना कैंसर के रोकथाम में भी सकरात्मक भूमिका निभाती है

ये एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में ये हमारे शरीर से फ्री रेडिकल्स को नष्ट करता है

इसके अतिरिक्त इसमें फिनोलिक नामक यौगिक भी उपस्थित रहता है जो कि कार्सिनोजेनेसिस पर रोक लगाता है.

जिनका वजन बहुत ज्यादा है उनके लिए इसका सेवन राम बाण साबित होता है.

इसमें फैटी एसिड, बीटा कैरोटिन, क्लोरोफिल और अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं.

स्पिरुलिना में प्रचुर मात्रा में मौजूद फाइबर और प्रोटीन आपके लीवर के स्वास्थ्य का ख्याल रखते हैं