शहद के फायदे,गुण, स्वास्थ्य लाभ और उपयोग

शहद आपके खून के लिए अच्छा है शहद को गुनगुने पानी में मिलाकर पिया जाए तो उसका खून में लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) की संख्या पर लाभदायक असर पड़ता है।

रक्तचाप में फायदेमंद शहद का नियमित सेवन सर्कुलेटरी सिस्टम और रक्त की केमिस्ट्री में संतुलन को पाने में न सिर्फ आपकी मदद करता है, बल्कि आपको ऊर्जावान और फुर्तीला भी बनाए रखता है।

कीमोथैरेपी में असरदायक शहद कीमोथैरेपी के मरीजों में श्वेत रक्त कोशिकाओं (डब्ल्यूबीसी) की संख्या को कम होने से रोक सकता है।

शहद चीनी से कम नुकसानदायक है शहद उसका एक बढ़िया विकल्प है जो उतना ही मीठा है मगर उसका सेवन अहानिकर है।

शहद योग अभ्यास और क्रियाएं करने वालों के लिए अच्छा है योग अभ्यासों को करने वाले लोगों के लिए शहद का सेवन रक्त के रसायन में संतुलन लाता है, इसलिए उन्हें खास तौर पर इसका सेवन करना चाहिए।

शहद एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक है शहद का सेवन लाभदायक एंटीऑक्सीडेंट तत्वों की संख्या को बढ़ाता है, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाता है और हानिकारक सूक्ष्मजीवों से लड़ता है।

शहद दिल की देखभाल में फायदेमंद एक अनार का ताजा रस लेकर उसमें एक बड़ा चम्मच शहद मिलाएं। रोजाना सुबह खाली पेट लें।

सर्दी जुकाम के लिए शहद के उपचार काली मिर्च के 10 से 12 दानों को दरदरा कूट लें और उन्हें दो छोटे चम्मच शहद में रात भर भिगो कर रखें। सुबह खूब अच्छी तरह चबाते हुए काली मिर्च के दाने खा लें।

शहद एक बलवर्धक खाद्य पदार्थ (एनर्जी फूड) है पारंपरिक औषधि में शहद का एक महत्वपूर्ण प्रयोग एक त्वरित बलवर्धक के रूप में किया जाता है।

शहद पाचन में मदद करता है शहद कब्ज, पेट फूलने और गैस में लाभकारी होता है क्योंकि यह एक हल्का लैक्सेटिव है।

शहद त्वचा और सिर की खाल के संक्रमणों से लड़ता है। त्वचा और सिर की खाल के लिए भी शहद बहुत फायदेमंद होता है।

शहद बच्चों को गहरी नींद सोने में मदद करता है कई अध्ययनों के शुरुआती नतीजे दर्शाते हैं कि शहद से बच्चों की नींद गहरी हो सकती है। माता-पिता की राय पर आधारित इस अध्ययन में निष्कर्ष निकाला गया कि शहद से रात के समय बच्चों में खांसी कम हुई और उन्हें अधिक गहरी नींद सोने में मदद मिली।

एनेमिया में लाभकारी अगर आप रोजाना गुनगुने पानी के साथ एक निश्चित मात्रा में शहद का सेवन करते हैं तो थोड़े दिनों में आप महसूस करेंगे कि आपके शरीर में लाल रक्त कणिकाओं की संख्या बढ़ गई है।

शहद के प्रयोग और पारंपरिक उपचार

– एक गिलास सामान्य तापमान वाले जल में 1 से 3 छोटे चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार लेने पर ऊतकों को पोषण मिलता है और नर्वस सिस्टम की कमजोरी को दूर करने में मदद मिलती है।

– एक गिलास गुनगुने पानी में दो-तीन छोटे चम्मच शहद मिलाकर लेने से तत्काल शक्ति मिलती है और वजन कम करने में मदद मिलती है।

– खरोंचों पर शहद मलने से घाव तेजी से ठीक होता है और निशान हल्के पड़ते हैं।

दिन में दो बार 20-20 मिनट के लिए, चेहरे पर शहद और ताजे नींबू के रस को बराबर भाग में मिलाकर लगाएं। इससे चेहरे के काले धब्बे मिट जाते हैं।

– जो शहद गहरे रंग का होता है, उसमें ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट होते हैं।

– शहद खराब नहीं होता और उसे ठीक से बंद करके रखने पर लंबे समय तक रखा जा सकता है।

– पुरातत्वविज्ञानियों को मिस्र के प्राचीन शहर थेब्स में फेरों की कब्रों में और तूतनखामन की कब्र में शहद के सीलबंद जार मिले हैं। यह पता नहीं चला है कि पुरातत्वविज्ञानियों ने उस शहद का क्या किया!

शहद एक ऐसा पदार्थ है, जिसकी रासायनिक संरचना काफी कुछ इंसान के रक्त से मिलती जुलती है।