how-to-remove-stretch-mark

Pregnancy How to Remove Stretch Marks in Hindi | स्ट्रेच मार्क्स को तेजी से कम करने के सबसे असरदार घरेलु नुस्खे |




मैं Dr. Manoj Das आज आपके साथ Pregnancy How to Remove Stretch Marks in Hindi  में share कर रहा हूँ. मेरी कोशिश होगी की यह लेख  Hindi में इस विषय पर लिखे गए सबसे अच्छे लेखों में से एक हो.
एक औरत के जीवन की सबसे खूबसूरत अवस्था उसकी प्रेगनेंसी ही होती है भारतीय समाज में और विश्व में भी आज भी औरत की पूर्णता मां बनने में ही मानी जाती है।
मां बनने में औरतों को कितनी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है यह एक औरत ही जानती है, पूरे 9 महीने एक शिशु को अपने रक्त मांस से सींच कर अपने अंदर रखकर पालना स्त्री के जीवन को परिपूर्णता से भर देता है ।
जन्म के बाद शिशु की देखभाल और अन्य कामों में स्त्री को अपनी तरफ ध्यान देने का समय ही नहीं मिलता
प्रेगनेंसी में आने वाले शारीरिक बदलावों में एक मुख्य बदलाव है पेट पर पड़ने वाले स्ट्रेच मार्क्स । स्ट्रेच मार्क्स मुख्य रूप से प्रेग्नेंसी के सातवें आठवें मास में शुरू होते हैं जब पेट की त्वचा अपनी पूर्ण तनाव पर होती है
यह मुख्य रूप से नाभि के नीचे से शुरु होकर एक लंबी लाइन के रूप में नीचे तक जाते हैं और इसके साथ ही दोनों तरफ हल्की गुलाबी रंग की रेखाएं खींच जाती हैं इन्हें स्ट्रेच मार्क्स कहा जाता है ।
बचाव के उपाय :- आजकल अधिकतर महिलाएं अपने स्ट्रेच मार्क्स के प्रति पहले से जागरूक होती हैं इसलिए वह इस तरह के प्रयत्न करती हैं कि स्ट्रेच मार्क्स पड़ ही ना पाए, और यही सर्वाधिक अनुकूल होता है, क्योंकि एक बार मार्क्स पड़ने के बाद उन्हें मिटाना थोड़ा कठिन काम हो जाता है।



स्ट्रेच मार्क्स से बचाव के लिए मुख्य रूप से आवश्यक है त्वचा की नमी कम होने ना पाए,, उस समय पेट में खिंचाव आने के कारण त्वचा बहुत ज्यादा खिंचाव महसूस करती है और उसके कारण ही त्वचा में प्राकृतिक रूप से नमी की कमी हो जाती है बढ़ने वाली रूक्षता ही स्ट्रेच मार्क्स को जन्म देती है इसलिए अगर प्रेगनेंसी की अवस्था में महिलाएं अपनी त्वचा में दिन में तीन से चार बार नारियल तेल या किसी भी ऑइली बॉडी लोशन का इस्तेमाल करें तो स्ट्रेच मार्क्स को काफी हद तक रोका जा सकता है ।
इतने सारे उपायों के बाद भी बहुत बात ट्रस्टमार्क पढ़ ही जाते हैं ऐसे में वह कौन से उपाय हैं जिनका प्रयोग कर स्ट्रेच मार्क्स को कम किया जा सकता है आइए जानते हैं :-
1. तेल का उपयोग:- डिलीवरी के बाद महिलाएं अपने पेट में जांघों पर कमर पर बाहों में जहां पर भी स्ट्रेच मार्क्स पाए जाते हैं वहां पर नियमित रूप से दो से तीन बार नारियल तेल का प्रयोग करें तो स्ट्रेच मार्क्स में काफी हद तक कमी महसूस की जा सकती है । नारियल तेल के अभाव में जैतून का तेल बादाम का तेल तिल का तेल भी प्रयोग किया जा सकता है ।
2. विटामिन ई का प्रयोग :- बाजार में विटामिन ई के कैप्सूल इवियोन नाम से पाए जाते हैं।। एक कैप्सूल में लगभग इतना विटामिन ई होता है, जो शरीर में दो से तीन बार प्रयोग किया जा सकता है।



यह काफी गाढ़े तरल के रूप में पाया जाता है इस कैप्सूल को प्रयोग करने के लिए कैप्सूल में ऊपर से छोटा छेद करके उसे हाथ में निकाल ले और थोड़ा सा कोई भी तेल या पानी मिलाकर इसे स्ट्रेच मार्क्स वाली जगह पर लेप कर दें ऐसा दिन में दो से तीन बार करने पर स्ट्रेच मार्क्स में कमी आती है 3. एलोवेरा जेल को समान मात्रा में मलाई के साथ मिलाकर स्ट्रेच मार्क्स पर दिन में दो से तीन बार लेप करें, लाभ होगा ।

4. रक्त चंदन और घोड़ बच में समान मात्रा में धनिया की पत्तियां मिलाकर पीसकर स्ट्रेच मार्क्स वाली जगह पर दिन में कम से कम एक बार लेप करें आशा अनुरूप सफलता मिलेगी
5. स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने के लिए सबसे ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत यही है कि त्वचा में नमी बनी रहे । कोई भी अच्छा विटामिन ई युक्त बॉडी लोशन शरीर में तीन से चार बार लेप करना लाभप्रद होता है ।



नो मार्क्स ,स्ट्रेचनिल, स्ट्रेच ऑफ आदि बाजार में मिलने वाले विभिन्न लेप लाभप्रद है इनका प्रयोग प्रेगनेंसी के आठवें महीने से त्वचा पर लेप करने के लिए शुरू किया जा सकता है और डिलीवरी के बाद साल भर तक इनका लेप लगातार किया जाए तो स्ट्रेच मार्क्स काफी हद तक कम किया जा सकते हैं ।
मां बनना स्त्री जीवन की सबसे बड़ी खुशी है यह एक ऐसी पदवी है जो आसानी से किसी महिला को नहीं मिल जाती । एक औरत अपनी संपूर्णता मां बनकर ही अनुभव करती है, ऐसे में इतने बड़े सम्मान के लिए अगर कुछ थोड़े से स्ट्रेच मार्क्स शरीर में पड़ भी जाए तो कुछ ऐसा बुरा नहीं है । नारी का आत्म सम्मान और गर्व सबसे ऊपर है सुंदरता उसके आगे मायने नहीं रखती ।
निवेदन:- यदि  यह लेख आपके लिए लाभप्रद रहा हो तो कृपया  कृपया  comment के  माध्यम  से  मुझे ज़रूर बताएं.और इसे अपने Facebook friends के साथ ज़रूर share करें

Main Menu